PM Kisan yojana 2023: किसानों के लिए खुशखबरी अब किसानो को 6000 की जगह मिलेंगे 8000 रुपए, जानें, पूरी जानकारी

10
PM Kisan yojana 2023

बजट 2023 में सरकार पीएम किसान सम्मान निधि की राशि बढ़ाने का ऐलान कर सकती है

प्रधानमंत्री किसान निधि योजना के तहत, किसानों को वर्तमान में तीन समान किस्तों में 6,000 रुपये की वार्षिक वित्तीय सहायता दी जाती है। केंद्र सरकार की ओर से जल्द ही आम बजट 2023 पेश किया जाने वाला है। वहीं, इस साल के बजट में सरकार की ओर से किसानों के लिए कई बड़े ऐलान किए जाने की संभावनाएं हैं। इसके साथ ही किसानों को यह भी उम्मीद है कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना को लेकर कुछ अहम घोषणाएं की जा सकती हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सरकार पीएम किसान सम्मान निधि की राशि एक साल के लिए बढ़ा सकती है और एक साल बाद इसकी समीक्षा की जाएगी. सरकार पीएम किसान योजना के तहत किसानों को दी जाने वाली सम्मान निधि की राशि 6,000 रुपये प्रति वर्ष से बढ़ाकर 8,000 रुपये कर सकती है और बजट में इसकी घोषणा की जा सकती है. किसान भाइयों आज ट्रैक्टर जंक्शन की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपके साथ प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की राशि में वृद्धि से संबंधित जानकारी साझा कर रहे हैं।

PM Kisan Yojana : इस योजना में अब किसानों को 6000 रुपये मिलते हैं

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत वर्तमान में किसानों को 6,000 रुपये की वार्षिक वित्तीय सहायता दी जाती है। केंद्र सरकार ने किसानों के हित में फरवरी 2019 में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम किसान) योजना की शुरुआत की थी। जिसके तहत प्रत्येक किसान के डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (DBT) के माध्यम से किसानों के बैंक खाते में तीन समान किश्तों में सालाना 6000 रुपये ट्रांसफर किए जाते हैं। योजना की शुरुआत के समय करीब 3 करोड़ किसान योजना का लाभ ले रहे थे, जो अब बढ़कर करीब 11 करोड़ हो गए हैं। साल में कुल 3 किश्तों के जरिए किसानों के खाते में 6000 रुपये की राशि भेजी जाती है। बजट 2022 में सरकार ने इस योजना के लिए 68,000 करोड़ रुपए आवंटित किए थे।

किसान कई बार सम्मान निधि की राशि बढ़ाने की मांग कर चुके हैं

बीज, खाद, खाद और कीटनाशक दवाओं की कीमतों में वृद्धि के कारण किसान लंबे समय से सरकार से पीएम किसान सम्मान निधि की राशि दोगुनी करने की मांग कर रहे हैं. इसको लेकर पिछले महीने आरएसएस से जुड़े भारतीय किसान संघ ने भी खेती की बढ़ी लागत के हिसाब से पीएम किसान सम्मान निधि की राशि बढ़ाने की मांग की थी. इससे पहले भी कई बार पीएम किसान सम्मान निधि की राशि बढ़ाने की मांग की जा चुकी है. इन सब बातों को देखते हुए उम्मीद की जा रही है कि केंद्र सरकार इस बजट में पीएम किसान सम्मान निधि की राशि बढ़ा सकती है. मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि अब इस योजना के तहत किसानों को तीन की जगह चार किश्तें दी जा सकती हैं.

सम्मान निधि की राशि बढ़ने पर सरकार पर 22000 हजार रुपये का अतिरिक्त भार आएगा.

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम किसान सम्मान निधि योजना) की राशि बढ़ाने से सरकार को 22,000 हजार रुपये अतिरिक्त खर्च करने होंगे। केंद्र सरकार के एक अधिकारी के मुताबिक, “प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की राशि में बढ़ोतरी से खपत और ग्रामीण मांग को समर्थन मिल सकता है।” अधिकारी ने कहा कि भले ही योजना में दी गई राशि को दोगुना करने के सुझाव थे, लेकिन राजस्व व्यय पर अंकुश लगाने और मुद्रास्फीति के दबाव पर सरकार का ध्यान वेतन वृद्धि को सीमित कर सकता है। योजना के तहत प्रति किसान 2,000 रुपये की वृद्धि से सरकार को लगभग 22,000 करोड़ रुपये की वार्षिक अतिरिक्त लागत आएगी।

तीन वर्षों में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत जरूरतमंद किसानों को 2 लाख करोड़ रुपये से अधिक की वित्तीय सहायता प्रदान की गई है, जो देश में कोरोना महामारी के प्रकोप के कारण लॉकडाउन के समय वित्तीय संकट से निपटने के लिए किसानों के काम आई। 2020. सरकार ने वित्त वर्ष 2022-23 में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत किसानों के लिए 68,000 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं। अंतर्राष्ट्रीय खाद्य नीति अनुसंधान संस्थान की एक रिपोर्ट के अनुसार, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि ने किसानों को कृषि आदानों, दैनिक उपभोग, शिक्षा, स्वास्थ्य और अन्य आकस्मिक खर्चों से निपटने में मदद की है।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की 13वीं किस्त फरवरी में आ सकती है

सरकार ने योजना की 12वीं किस्त अक्टूबर में जारी की थी, जिसका लाभ देश के करोड़ों किसानों ने उठाया। सरकार की ओर से साल 2023 की पहली और योजना की 13वीं किस्त फरवरी में जारी की जा सकती है. हालांकि किस्त आने की तारीख अभी घोषित नहीं की गई है। सभी किसान इस बात का इंतजार कर रहे हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कब किसानों के खाते में 13वीं किस्त जारी करेंगे. इसमें देश के कुल 13 करोड़ किसान परिवारों को योजना का लाभ मिलना है। बता दें कि इस योजना की 13वीं किस्त का लाभ सिर्फ उन्हीं किसानों को मिलेगा जिन्होंने केवाईसी प्रक्रिया पूरी कर ली है।