cbse board result 2022: सरकार ने लिया चोकाने वाला फैसला अंकों के मूल्यांकन के बाद घटाया जा सकता है टर्म-2 का वेटेज,

248

CBSE 10th-12th Result: कोरोना महामारी के कारण स्कूल पूरे साल बंद रहे थे, जिस वजह से छात्रों के पढ़ने व लिखने की आदत छूट गई थी. ऐसे में बहुत से विद्यार्थी परीक्षा में सभी प्रश्न हल करने में असफल रहे थे. परिस्थितियों को देखते हुए कक्षा 10वीं व 12वीं के रिजल्ट के खराब होने की आशंका जताई जा रही है.

नई दिल्ली: केंद्रिय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) की तरफ से कक्षा 10वीं व 12वीं के टर्म – 2 की परीक्षा के मूल्यांकन औसत अंक के कम होने पर वेटेज में बदलाव किया जा सकता है. हालांकि, बोर्ड टर्म – 2 के मूल्यांकन के बाद ही वेटेज में बदलाव करने का निर्णय लेगा. पहले बोर्ड की ओर से टर्म – 2 के वेटेज को बढ़ाने का निर्णय लिया गया था, लेकिन परीक्षा को लेकर मिल रही प्रतिक्रियाओं के कारण, इसे घटाया जा सकता है.

सरकार ने लिया चोकाने वाला फैसला अंकों के मूल्यांकन के बाद घटाया जा सकता है टर्म-2 का वेटेज,

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मूल्यांकन होने के बाद औसत अंक के आधार पर वेटेज को घटाने व बढ़ाने का निर्णय लिया जाएगा. बता दें कि पहले टर्म – 1 और टर्म – 2 का वेटेज 30:70 औसत रखने का फैसला लिया गया था, लेकिन मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए इसमें बदलाव किया जा सकता है. कोरोना महामारी के कारण के इस सत्र में बोर्ड की परीक्षाओं का आयोजन दो टर्म में करने का निर्णय लिया गया था. टर्म – 1 में सिलेबस का 50 प्रतिशत हिस्सा शामिल किया गया था. टर्म – 1 की परीक्षा में छात्रों से केवल ऑब्जेक्टिव प्रश्न पूछे गए थे. वहीं टर्म – 2 की परीक्षा में केवल डिस्क्रिप्टिव प्रश्न पूछे गए थे.

कोरोना महामारी के कारण स्कूल पूरे साल बंद रहे थे, जिस वजह से छात्रों के पढ़ने व लिखने की आदत छूट गई थी. ऐसे में बहुत से विद्यार्थी परीक्षा में सभी प्रश्न हल करने में असफल रहे थे. परिस्थितियों को देखते हुए कक्षा 10वीं व 12वीं के रिजल्ट के खराब होने की आशंका जताई जा रही है. इसलिए बोर्ड बेहतर रिजल्ट देने के लिए टर्म – 2 की परीक्षा के मूल्यांकन औसत अंक के वेटेज को घटा सकता है.

बता दें कक्षा 10वीं की परीक्षाएं समाप्त हो चुकी हैं.  इस सप्ताह कक्षा 10वीं की परीक्षाओं का मूल्यांकन कार्य भी समाप्त हो जाएगा. ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि बोर्ड की ओर से 10वीं का रिजल्ट जून महीने के दूसरे सप्ताह में जारी किया जा सकता है.

मूल्यांकन दोनों शर्तों में सर्वश्रेष्ठ स्कोर पर किया जाना चाहिए

महक चीमा लिखती हैं कि बोर्ड परीक्षार्थियों के साथ न्याय होना चाहिए। इस बार मूल्यांकन सीबीएसई द्वारा बेस्ट ऑफ अदर टर्म के आधार पर किया जाना चाहिए। हिमांशु लिखते हैं कि हम छात्रों की मांग जायज है। जिस समय सीबीएसई परीक्षा पैटर्न बदल सकता है, उसे देखते हुए अंकन पैटर्न भी सही होना चाहिए। मनीष लिखते हैं कि सीबीएसई कृपया हमें दोनों शर्तों में से सर्वश्रेष्ठ के आधार पर अंकन दें। यह छात्रों के लिए राहत की बात होगी। देबजीत लिखते हैं कि सीबीएसई को छात्रों के तनाव को देखते हुए वेटेज को लेकर खुद फैसला लेना चाहिए।

कोविड काल का हवाला देते हुए

हेमंत लिखते हैं कि पिछले दो साल में हमने बहुत कुछ सहा है। हमारा बैच प्रायोगिक बैच साबित हुआ है। आरव ने लिखा कि दो साल ऑनलाइन पढ़ाई, दो टर्म में पेपर, सब्जेक्टिव और ऑब्जेक्टिव, सब कुछ ठीक है। लेकिन हमें दोनों शब्दों में सर्वश्रेष्ठ के आधार पर अंकन प्राप्त करना चाहिए। इसका फायदा छात्रों को मिलेगा। एकता ने ट्वीट किया कि सीबीएसई की तरफ से हमने दोनों टर्म के लिए बराबर मेहनत की है. फिर किसी पद में संख्याओं का कोई कम भाग नहीं जोड़ा जाना चाहिए। यदि दोनों टर्म के सर्वश्रेष्ठ स्कोर के आधार पर अंकन किया जाता है तो छात्रों को लाभ होगा।

                                          Important Link

CBSE RESULT 2022 Click Here
CBSE Result Notification Click Here
CBSE  Result Notice Click Here
Join Telegram Group Click Here
CBSE Term 1 Result Click Here
Geetips Official Website Click Here
Official Website Click Here