Scholarships For Study: कॉलेज छात्रों के लिए ये हैं टॉप 5 स्‍कॉलरशिप, जानिए क्या है योग्‍यता और अन्‍य जरूरी बातें यहा देखे 

279

Scholarships For Study : महंगी शिक्षा के बीच आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों के लिए उच्च शिक्षा हासिल करना आसान नहीं है। इन छात्रों की मदद के लिए सरकार कई स्कॉलरशिप योजनाएं चलाती है। यहां हम देश की टॉप 5 स्कॉलरशिप स्कीम के बारे में बता रहे हैं

Scholarships For Study : 12वीं के बाद उच्च शिक्षा हासिल करना अब आसान नहीं रहा। महंगी शिक्षा कभी-कभी आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों के भविष्य की राह में रोड़ा बन जाती है। ऐसे छात्रों की मदद के लिए सरकार द्वारा कई छात्रवृत्ति योजनाएं चलाई जाती हैं। जिसकी मदद से मेधावी और आर्थिक रूप से कमजोर छात्र अपनी उच्च शिक्षा जारी रख सकते हैं।

यहां पर हम पांच ऐसे ही स्‍कॉलरशिप के बारे में बताने जा रहे हैं, जो छात्रों को एजुकेशन हासिल करने में काफी मदद करते हैं।

सेंट्रल सेक्टर स्कीम ऑफ स्कॉलरशिप फॉर कॉलेज एंड यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स (सीएसएसएस)

यह एक बहुत व्यापक छात्रवृत्ति है। यह CSSS स्कॉलरशिप हर साल 82,000 छात्रों को दी जाती है। इसमें 50-50 फीसदी कंटेस्टेंट और लड़कियां हैं. यह स्कॉलरशिप कॉलेज और यूनिवर्सिटी के छात्रों के लिए है। इसके तहत छात्रों को ग्रेजुएशन के दौरान हर साल 10,000 रुपये और पोस्ट ग्रेजुएशन के दौरान हर साल 20 हजार रुपये दिए जाते हैं। इसका उद्देश्य पढ़ाई के दौरान छात्रों की दैनिक जरूरतों को पूरा करना है।

स्कॉलरशिप के लिए योग्‍यता

इस स्कॉलरशिप को पाने के लिए सफल उम्मीदवारों के पास 80 पर्सेंटाइल होना चाहिए। साथ ही परिवार की वार्षिक आय 8 लाख से अधिक नहीं होनी चाहिए।

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना (केवीपीवाई)

इस स्कॉलरशिप का उद्देश्य छात्रों को विज्ञान के क्षेत्र में आगे बढ़ाना है। यह छात्रवृत्ति विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा दी जाती है। इस स्कॉलरशिप के लिए एक परीक्षा देनी होती है। इसकी परीक्षा भारतीय विज्ञान संस्थान द्वारा आयोजित की जाती है। किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना के तहत चयनित छात्रों को पीएचडी पूरी होने तक 5000 से 7000 रुपये प्रति माह की फेलोशिप दी जाती है।

स्‍कॉलरशिप के लिए योग्‍यता

इस परीक्षा में बैठने के लिए 12वीं में 75 फीसदी अंक होना जरूरी है। इसकी परीक्षा में एप्टीट्यूड टेस्ट लिया जाता है। जिसके आधार पर शॉर्टलिस्ट किए गए उम्मीदवारों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। इन दोनों परीक्षाओं को पास करने के बाद स्कॉलरशिप दी जाती है।

प्रधानमंत्री स्कॉलरशिप स्कीम (पीएमएमएस)

प्रधानमंत्री छात्रवृत्ति योजना के तहत आतंकवादी और नक्सली हमलों में शहीद हुए पूर्व सैनिकों, अन्य केंद्रीय बलों, पुलिस कर्मियों और रेल कर्मियों के बच्चों और विधवाओं को बच्चों को दिया जाता है। इसका उद्देश्य उन्हें उच्च तकनीकी और व्यावसायिक शिक्षा में बढ़ावा देना है। स्कॉलरशिप के तहत हर महीने 2000 से 3000 रुपये दिए जाते हैं।

स्‍कॉलरशिप के लिए योग्यता

इस स्कॉलरशिप को पाने के लिए आपको 12वीं, डिप्लोमा या ग्रेजुएशन में कम से कम 60% अंक लाने होंगे। साथ ही आवेदक की उम्र 18 से 25 साल के बीच होनी चाहिए।

प्रगति स्कॉलरशिप स्कीम (एआईसीटीई)

यह स्‍कॉलरशिप मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय की तरफ से दिया जाता है। यह 12वीं पास होने के बाद 5000 लड़कियों को दिया जाता है। इनमें से 2000 डिग्रीधारक और 2000 डिप्लोमाधारकों को दिया जाता है। वहीं 1000 स्कॉलरशिप दिव्यांग छात्राओं के लिए रिजर्व रहता है। लड़कियों को शिक्षा के माध्यम से सशक्त करना ही इसका उद्देश्य है। चुनी गई छात्राओं को सालाना 50 हजार रुपये की स्कॉलरशिप के साथ अन्य लाभ भी मिलते हैं।

स्कॉलरशिप के लिए योग्‍यता

यह स्‍कॉलरशिप मेरिट के आधार पर दिया जाता है। इसके लिए मान्यता प्राप्त संस्थान में दाखिला लेना होगा। परिवार की वार्षिक आय 8 लाख से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।

महात्मा गाांधी नेशनल फैलोशिप (एमजीएनएफ)

यह MGNF द्वारा आयोजित एक सार्वजनिक नीति और प्रबंधन प्रमाणपत्र कार्यक्रम है। इस दो साल के शैक्षणिक कार्यक्रम के तहत आईआईएम को प्रशिक्षण दिया जाएगा। पहले वर्ष में छात्रों को 50,000 रुपये प्रति माह और दूसरे वर्ष में 60 हजार रुपये प्रति माह दिया जाता है।

फैालेशिप के लिए योग्‍यता

इस फेलोशिप के लिए छात्रों का ग्रेजुएशन होना, भारत का नागरिक होना और उनकी उम्र न्यूनतम 21 वर्ष और अधिकतम 30 वर्ष होनी चाहिए। साथ ही आवेदक को 10वीं के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में तीन साल तक सामाजिक/गैर-लाभकारी क्षेत्रों में काम करने का अनुभव होना चाहिए।